हमारे निदेशक

सुरिन्‍दर सिंह

श्री सुरिन्‍दर सिंह ने अक्‍तूबर, 1986 में दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से माइक्रोवेव इलेक्‍ट्रानिक्‍स में M.Tech. करने के पश्‍चात् अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (SAC), इसरो, अहमदाबाद में कार्यग्रहण किया।  वे सक्रिय रूप से उपग्रह कार्यक्रम के लिए INSAT श्रृंखला के स्‍वदेशीकरण से लेकर अंतरिक्ष के प्रयोग हेतु हार्डवेयर के डिजाइन और विकास में जुड़े रहे। वर्तमान में, वे विशिष्‍ट वैज्ञानिक एवं निदेशक, एससीएल के रूप में 180 nm तकनीक से स्‍टेन्‍डर्ड IC ब्‍लॉक्स, एप्लिकेशन स्‍पे‍सिफिक ICs, चार्ज कपल्‍ड डिवाईसेस (CCD) और 800 nm  तकनीकी नोड से मेम्‍स डिवा‍ईसेस की विकास टीम का नेतृत्‍व कर रहे हैं।

वे SATCOM एवं नेविगेशन पेलोड क्षेत्र में RF उपप्रणाली के लिए एवं विभिन्‍न क्षमताओं में कईं प्रोजेक्‍ट्स के लिए उत्‍तरदायी रहे हैं। वे अप्रैल, 2014 में सेमीकंडक्‍टर लेबोरेटरी, अंतरिक्ष विभाग, एस.ए.एस. नगर में अपनी प्रतिनियुक्ति से पहले GSAT-8 के संचार पेलोड में सह प्रोजेक्‍ट नि‍देशक एवं नेविगेशन पेलोड विकास टीम का प्रोजेक्‍ट निदेशक, IRNSS  पेलोड के रूप में नेतृत्‍व कर रहे थे।

उनका मुख्‍य ध्‍यान उच्‍च प्रदर्शन, विश्‍वसनीय, प्रभावी और लाइट वेट उपप्रणालियों के विकास की ओर रहा है और इन लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने के लिए उपग्रह पेलोड में कईं नई अत्‍याधुनिक तकनीकों को लागू करने के लिए उत्‍तरदायी रहे हैं। उनके द्वारा ऑन–बोर्ड एप्लिकेशन के लिए विकसित की गई प्रणालियों में लो नोइस प्रवर्धक(एम्‍पलीफायर), अप एंड डाउन कन्‍वटर्स रिसीवर्स, इनपुट मल्‍टीप्‍लेक्‍सर्स, मल्‍टीपल पास बैंड फिल्‍टर्स, प्री-सेलेक्‍ट फिल्‍टर्स और एनालॉग IF मैश प्रोसेसर्स, कुशल नेरो बैंड ट्रैफिक मेनेजमैंट के लिए नया तकनीकी एलीमेंट शामिल है। इन प्रणालियों के विकास के लिए प्रयोग की जाने वाली अत्‍याधुनिक प्रौद्योगिकियों में से मोनोलिथिक माइक्रोवेव इंटेग्रेटिड सर्किट (MMIC), डाइलेक्ट्रिक रेसोनेटर्स (DR), हाई टेम्‍परेचर सुपरकंडक्टिंग (HTS) फिल्‍म्‍स, RF माइक्रो-इलैक्‍टो–मैकेनिकल प्रणाली (RF MEMS) और लो टेम्‍परेचर को-फायर्ड सिरेमिक (LTCC) मुख्‍य हैं।

श्री सुरिन्‍दर सिंह को भारतीय अंतरिक्ष में उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन एवं योगदान के लिए 2009 में राष्‍ट्रीय विज्ञान एकेडमी, भारत (NASI) से एप्लिकेशन ओरिएंटेड इनोवेशन इन फि़जिकल साइन्‍स’’ के लिए प्रतिष्ठित प्‍लेटिनम जुबली पुरस्‍कार, “भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में सराहनीय योगदान देने हेतु इसरो मेरिट पुरस्‍कार; 2007, 2010 एवं 2013 में इसरो टीम उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार और 2016 में इसरो निष्‍पादन उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार से नवाजा गया।

आप कईं राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय प्रकाशनों के सह- लेखक हैं और डाइलैक्ट्रिक रेसोनेटर आधारित फिल्‍टर U.S. पेटेंट के मुख्‍य आविष्‍कारक हैं। आप इसरो के अंतरिक्ष कार्यक्रम के दीर्घकालिक परियोजना के लिए बनाई गई स्‍पेस जनरेशन टास्‍क ग्रुप एवं इसरो स्‍ट्रेटजी ग्रुप के सदस्‍य रह चुके हैं। श्री सुरिन्‍दर सिंह, IEEE के सदस्‍य एवं IETE और ISSE के फेलो हैं।